भारत का एक ऐसा गांव जहां लोग करवाते हैं अपनी बहुओं से वेश्यावृत्ति

0
827

यह शब्द सुनने में थोड़ा अजीब लगता है, लेकिन वैसे वेश्यावृत्ति कोई नया काम नहीं है। हम सदियों पहले की कहानियों में वेश्यावृत्ति होने के बारे में सुनते रहे हैं। शताब्दियों पहले राजा-महाराजाओं के काल में भी वेश्याएं होती थी। कई राजाओं के राज में खासतौर पर वेश्याएं होती थी। लेकिन आज के दौर में यह एक-दो नहीं बल्कि दुनियाभर में करोड़ों की संख्या में वेश्याएं मौजूद है। जो हवस के भूखे मर्दों की प्यास शांत करती है। नई दिल्ली के पास एक पूरी की पूरी बस्ती ही ऐसी है जहां बहुओं से ससुराल में वेश्यावृति कराई जाती है। और देशभर में ऐसी कई अनगिनत जगह हैं जहां बहु-बेटियों को इस धंधे में धकेला जाता है।

Veshyavritti

नजफगढ़ की प्रेमनगर बस्ती:
नई दिल्ली के पास ही नजफगढ़ की प्रेमनगर बस्ती ऐसी जगह है जहां रहने वाला एक समुदाय अपनी बहुओं से वेश्यावृत्ति कराता है। रीति-रिवाज के नाम पर बहुओं को वेश्यावृत्ति के धंधे में धकेलने वाले इस समुदाय का नाम “परना समुदाय” है। प्रेमनगर बस्ती में रहने वाले परना समुदाय के लोग अपनी बहुओं से यह काम पीढिय़ों से कराते आ रहे हैं। बताया जाता है कि इस समुदाय में लड़कियों की शादियां औसतन 15 वर्ष से कम उम्र में करा दी जाती है। शादी के बाद इन लड़कियों की असली बरबादी शुरू होती है। ससुराल वाले इन बहुओं से रोज रात में वेश्यावृत्ति का धंधा कराते हैं।

parna-family-force-daughter-inlaw-in-prostitution-business-j-1

घर का कामकाज भी है इनका काम:
परना समुदाय की ये बहुएं वेश्यावृत्ति के साथ-साथ ही घर का पूरा कामकाज भी संभालती है। सास-ससुर, पति और बच्चों के लिए रात का खाना बनाने के बाद ये बहुंए ग्राहकों को संतुष्ट करने के लिए घर से निकल जाती हैं। और फिर रात भर कुछ मर्दों को संतुष्ट करके ये फिर से घर के कामकाजों में सुबह फिर व्यस्त हो जाती हैं।

parna-family-force-daughter-inlaw-in-prostitution-business-jp_-1

बहुओं का मना करना पड़ता है भारी:
गौरतलब है कि परना समुदाय की कोई बहू अगर वेश्यावृति के धंधे में शामिल होने से मना कर देती है, तो उसे मारा-पिटा जाता है। कई बार तो बात यहां तक पहुंच जाती है कि बहुओं के मना करने पर उन्हें मौत के घाट उतार दिया जाता है।

बहुओं से वेश्यावृत्ति करवाने की क्या रही होगी वजह: ?
किसी समय इस समाज की आर्थिक हालात बेहद गंभीर रही होगी, अशिक्षित होने और मजबूरियों की बजह से इन्होंने गलत धंधा अपनाया होगा। बहुओं से धंधा कराने की वजह यह है कि ग्राहक वेश्या की उम्र और सूरत देखकर ही कीमत पर सौदा तय करता है। जवान महिलाओं के लिए मर्द अधिक कीमत देने के लिए भी तैयार रहता है।

 

सवाल यह है कि परना समुदाय की ये महिलाएं कब तक इस कीचड़ में ऐसे ही धकेली जाती रहेंगी?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here