जब असली टाइगर से हुआ मोदी का सामना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को छत्तीसगढ़ के नया रायपुर में जंगल सफ़ारी का लोकार्पण किया.

इसे दुनिया की मानव निर्मित जंगल सफ़ारियों में से एक बताया जा रहा है.

सफ़ारी में शेर और दूसरे जंगली जानवर आपके नज़दीक तो होंगे, लेकिन दर्शकों की सुरक्षा के पुख़्ता बंदोबस्त किए गए हैं.

इस मौक़े पर मोदी ने कहा कि 16 साल पहले जब छत्तीसगढ़ बना तो किसी ने नहीं सोचा था कि यह नक्सल प्रभावित राज्य इतना विकास कर सकता है.

मोदी के जंगल सफ़ारी का उद्घाटन करने और कैमरे से फ़ोटो खींचने की सोशल मीडिया पर चर्चा होने लगी और ट्विटर पर #PMatNayaRaipur ट्रेंड करने लगा.

नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, “कैमरे के लिए….नया रायपुर में नंदन वन जंगल सफ़ारी में.”

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने ट्वीट किया, “बेशक, भारत को सरदार पटेल के 50 साल बाद एक और शेर मिला है और वो भी गुजरात से.”

tweet

@TheChange2015 हैंडल से ट्वीट किया गया, “दो शेर एक फ्रेम में. और नारंगी शेर, केसरिया शेर से तस्वीर खिंचाकर गौरवान्वित है.”

@ng_dap हैंडल से ट्वीट किया गया, “पिंजड़ा हटाओ, फिर हम देखेंगे कि कौन शेर और कौन चूहा.”

अब आतंकियों को खोजकर मारेगी पुलिस की रायफल में लगी चिप

हाल के कुछ दिनों में कश्मीर घाटी में आतंकवादियों द्वारा राज्य पुलिस से हथियार छीने जाने की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए जम्मू कश्मीर पुलिस ने हथियारों में कंप्यूटर चिप लगाने का फैसला किया है ताकि आतंकी पुलिस से हथियार छीनकर भागे तो चिप से उनकी लोकेशन का पता लगाकर उनका खात्मा किया जा सके।

बतातें चलें कि पिछले तीन महीने में पुलिसकर्मियों से इस तरह से हथियार छीनने की 14 घटनाएं हो चुकी हैं।

आतंकियों द्वारा छीने गये हथियारों में एके.47 राइफलें, इनसास कार्बाइन, सेल्फ लोडिंग राइफल और 303 राइफल शामिल हैं। बताया जाता है कि हथियारों में कंप्यूटर चिप के लगने के बाद यदि कोई आतंकी किसी सुरक्षा कर्मी की रायफल छीनकर भगता है तो उसे जीपीएस के जरिए ट्रेस करके न केवल रायफल का पता लगाया जा सकता है बल्कि आतंकी ठिकाने का पता भी आसानी से लगाकर उसे ध्वस्त किया जा सकेगा।

सेना एक ओर जहां घाटी में आतंकियों को हथियारों आदि की सप्लाई काटकर उन्हें समापत करने की योजना बना रही है वहीं इस प्रकार की घटनाएं सेना की मुहिम पर आघात कर रही है।

सेना ने घाटी में हथियार छीनने की बढ़ती घटनाओं पर गंभीर निराशा प्रकट की है। क्योंकि इस वक्त आतंकवादियों के हथियारों की भारी कमी है और यही वह मौका है जब उनको घाटी में आसानी से निष्क्रिय किया जाता सकता है। लेकिन आतंकी जिस आसानी से राज्य पुलिस से हथियार छीनकर ले जा रहे हैं उसको देखते हुए सेना ने इस संबंध में एक प्रस्ताव भेजा है जिसमें राज्य पुलिस के हथियारों में कंप्यूटर चिप लगाने में मदद की पेशकश की गई है।

गौरतलब है कि राज्य के पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था ) एस.पी. वैद ने हाल ही में दक्षिण कश्मीर के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की थी जिसमें हथियार छीने जाने की घटनाओं को लेकर विशेष तौर पर चर्चा की गयी। सेना और केंद्र सरकार का आतंकवादियों को लेकर सख्त रूख को देखते हुए राज्य पुलिस को कहा गया है कि वे भी पुलिसकर्मियों से हथियार छीनने की कोशिश करने वाले किसी भी शख्स के साथ सख्ती से निपटे और जरूरत पडने पर ऐसे लोगों पर गोली चलाने से पीछे नहीं हटे।

खुफिया ब्यूरों को जो सूचना मिली है उससे पता चला है कि हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकी संगठन बड़े स्तर पर स्थानीय युवाओं की भर्ती कर रहा है। लेकिन उसके पास उनको देने के लिए हथियारों नहीं है। सीमा पर सेना की कड़ी चैकसी के चलते पाकिस्तान से होने वाली हथियारों की सप्लाई ठप्प हो गई है।

दरअसल, इसकी एक अन्य वजह भी है। पुलिस और अन्य सुरक्षाबलों से राइफलों को छीनने को आतंकी संगठन में प्रमोशन और भर्ती की शर्त के तौर भी लिया जाता है। वारदातों को अंजाम देने की कुशलता पर उनकी रैंकों का निर्धारण होता है। यही वजह है कि वह पिछले कुछ महीने से इस तरह की घटनाओं को अंजाम दे रहा है। घाटी में 9 जुलाई को आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से शुरू हुए हिंसक प्रदर्शनों के दौरान सुरक्षा बलों से करीब 100 हथियार लूट लिए गए थे।

आतंकी शोपियां के एक गांव के पूर्व सी.पी.आइ, एम.एल.सी अब्दुल रहमान टुकरू के आवास के गार्ड रूम से मैगजीन और 30 जिंदा कारतूस समेत एके .47 राइफल लेकर फरार हो गए। इसके पहले आतंकी दक्षिण कश्मीर के डाइलगाम गांव में पी.डी.पी. के जिला अध्यक्ष एडवोकेट जावेद अहमद शेख के घर की रखवाली करने वाले चार पुलिसकर्मियों से चार राइफलें छीनकर फरार हो गए। कुछ मामलों में ऐसे संकेत मिले हैं कि जिनमें पुलिस की भूमिका भी संदिग्ध पाई गई है।

बहराल, राइफल छीनने की घटनाओं में वृद्धि को देखते हुए पुलिस और सेना द्वारा उठाया गया यह हथियारों में कंप्यूटर चिप डालने का कदम आतंकियों के हौसले पस्त करने में सहायक होगा।

मोदी ने बुलाई हाई लेवल मीटिंग ! पाकिस्तान को खत्म करने का बना लिया है यह प्लान !

पिछले 10 दिनों में पाकिस्तान कुछ 22 बार सीजफायर को तौड़ चुका है.

पाकिस्तान से सटे भारतीय इलाके सांबा, राजौरी, अरनिया और नौशेरा में पाकिस्तान बार-बार गोलाबारी कर रहा है.

पाकिस्तान पहले इन जगहों पर हल्की गोलाबारी करता है और फिर अचानक से ही मोर्टार से गोले दागने लगता है. इस तरह की गोलाबारी में अब मासूम लोगों की जान जाने लगी है. अभी तक कुछ 10 भारतीय नागरिक पाकिस्तान की गोलाबारी में मर चुके हैं.

वहीँ भारत की सेना भी पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे रही है.

कुछ ही दिन पहले भारत की सेना ने पाकिस्तान की 14 चौकियों को घ्वस्त कर दिया था. कई पाकिस्तानी सैनिक भी सेना की गोलाबारी का शिकार हो चुके हैं. लेकिन उसके बावजूद भी पाकिस्तान मानने का नाम नहीं ले रहा है. दिल्ली के अन्दर पाकिस्तान के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी ने एक हाई लेवल मीटिंग की है.

सूत्रों की मानें तो इसके अन्दर सभी सेना के बड़े अफसर, देश के गृहमंत्री और रक्षा मंत्री मौजूद थे.

तो आइये पढ़ते हैं कि क्या-क्या इस मीटिंग में तय किया गया है – कैसे पाकिस्तान को खत्म करने का प्लान बना लिया गया –

पाकिस्तान को खत्म करने का प्लान –

PM Meeting

खुद मोदी ने सभी को ब्रीफ किया –

सूत्रों से आ रही खबरों के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी, पाकिस्तान की तरफ से हो रही फायरिंग से बेहद खफा हैं.

पीएम मोदी नहीं चाहते हैं कि युद्ध जैसी स्थिति बने और दोनों तरफ से मौतों का सिलसिला शुरू हो जाये. लेकिन पाकिस्तान जिस तरह की हरकत कर रहा है उसको लेकर मोदी गंभीर हैं. भारतीय सेना को पाक की फायरिंग का अनुकूल जवाब देने की बात भी मोदी ने बोली. मोदी पाकिस्तान को इस बार सही जवाब देना चाहते हैं.

मोदी ने तय कर लिया है कि बार-बार का यह झगड़ा शायद अब खत्म करने का वक्त आ गया है.

मोदी पाकिस्तान को पानी के लिए तरसाने वाले हैं –

सूत्रों के हवाले से आ रही खबरों के अनुसार नरेन्द्र मोदी ने इस हाई लेवल मीटिंग में जो मुख्य बात रखी है वह यही है कि पाकिस्तान से सभी तरह के रिश्ते खत्म करते हुए अब उनको दिए जाने वाला पानी भी रोका जा सकता है.

मोदी अब पाक को एक-एक बूंद पानी के लिए तरसाने वाले हैं.

जब सेना को पानी का अर्थ मालूम चलेगा तो उसको मालूम होगा कि उसका पड़ोसी उसके लिए कितना जरुरी है.

मोदी ने भारतीय गावों को खाली कराने का फरमान सुनाया –

जिस तरह से पाकिस्तान से सटे गाँवों में मासूम भारतीय गाँव वालों की जान जा रही है उसको लेकर मोदी चिंतित हैं और उन्होंने सभी को साफ़ बोल दिया है कि सभी गाँवों को खाली कराया जाए और इन लोगों को जो भी मदद चाहिए हो वो इनको जल्द से जल्द मुहैया कराई जाए. लेकिन पाकिस्तान की फायरिंग में इन लोगों की जान अब नहीं जानी चाहिए.

इन लोगों के लिए मौसम के हिसाब से सुरक्षित ठिकाने बनाये जाये और इन गाँव वालों को वहां जल्द से जल्द शिफ्ट कर दिया जाये.

तो पाकिस्तान को अब मिलने वाला है कड़ा जवाब –

इस बार पीएम मोदी ने पाकिस्तान को कड़ा जवाब देने के लिए अपनी कमर कस ली है. पाकिस्तान को चारों तरफ से घेरकर मारने की तैयारी हो चुकी है. पहले पानी और उसके बाद अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पाक को नंगा करने का प्लान बन चुका है. गोली का जवाब अब गोली से दिया जायेगा और मिसाइल का जवाब भी उसी की भाषा में दिया जायेगा. इस हाई लेवल मीटिंग में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी सभी को अपना सीक्रेट प्लान बताया और उसके ऊपर सभी की सहमती भी बन गयी है. पाकिस्तान को इस बार हैरान और चकित करने का प्लान बनाया गया है. पाक के साथ-साथ चीन को भी कड़े शब्दों में जवाब देने पर भी बातचीत की गयी है.

तो कुलमिलाकर इस हाईलेवल मीटिंग में पाकिस्तान को खत्म करने का प्लान बना लिया है. पाक की चारों तरफ से इस तरह से घेरकर मारने का प्लान है कि फिर उसके बाद कभी वो जवाब देने की स्थिति में ना बने. साथ ही साथ कुछ भारतीय लोग और संस्थाओं को भी पहचाना जा रहा है जो भारत में रहकर पाक की मदद कर रहे हैं.

ये है पाकिस्तान को खत्म करने का प्लान !

पाकिस्तानी सीजफायर में देश का एक और जवान शहीद; क्या अब पाकिस्तान से युद्ध ही है एक मात्र विकल्प?

पाकिस्तान की ओर से सोमवार को एलओसी पर पुंछ और रजौरी जिलों में लगातार फायरिंग जारी है। पाकिस्तानी सैनिकों ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर के पुंछ और रजौरी जिलों में नियंत्रण रेखा पर गोलियां एवं गोले बरसाकर सीजफायर का उल्लंघन किया है। इस हमले में सेना का एक जवान शहीद हो गया।

प्राप्त ख़बर के अनुसार, पाकिस्तान के सीजफायर का जवाब देते हुए रजौरी में सेना का एक जवान शहीद हो गया है। इस फायरिंग में सेना के दो जवान घायल भी हो गए हैं।

ऑटोमैटिक हथियारों से की फायरिंग –

सेना के एक अधिकारी ने बताया कि, सोमवार सुबह से ही जम्मू-कश्मीर के मेंढर के बालाकोट और मनकोट इलाके में पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया। इस बार ना पाक पाकिस्तानी सैनिकों ने मोर्टार के गोले और स्वचालित हथियार हमारी पोस्ट और नागरिक के रहने वाले क्षेत्रों में फेंके।

गौरतलब है कि आर एस पुरा में सीमा से सटे ज्यादातर गांवों के नागरिको के पहले ही सुरक्षित जगहों पर पहुचाँया जा चुका था लेकिन जो नहीं गए वो फायरिंग की दहशत के बीच ही गांव में रह रहे हैं।

 

भारतीय सेना की ओर से मुंहतोड़ जवाब –

सेना के एक अधिकारी ने बताया कि, भारतीय सैनिक इस गोलीबारी का उचित एवं करारे ढंग से जवाब दे रहे हैं। भारतीय सेना ने पाकिस्तान की तरफ से हुई फायरिंग का भी मुंहतोड़ जवाब दिया। हालांकि, रात करीब 08.30 बजे के बाद किसी तरह की फायरिंग की खबर नहीं है।

हीरानगर में भी संदिग्ध गतिविधियां देखे जाने पर करीब 07.30 बजे भारत की तरफ से कुछ देर फायरिंग की गई थी। ऐसा माना जे रहा है कि पाकिस्तान कि तरफ से यह फायरिंग आतंकवादी गतिविधियों को छिपाने के लिए कि गई।

इन हमलों में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास स्थित सांबा, कठुआ और जम्मू जिलों को निशाना बनाया गया, जिसके कारण बीएसएफ को जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी।

अब तक 8 जवान शहीद

पाक अधिकृत कश्मीर में आतंकी ठिकानों के खिलाफ भारतीय सेना द्वारा किए गए सर्जिकल हमलों के बाद से अब तक नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी सैनिकों की ओर से 60 से ज्यादा संघर्षविराम उल्लंघन किया जा चुका है।  

आपको बता दे कि सीमापार से घुसपैठ रोकते हुए अब तक 8 भारतीय जवान (आर्मी के 4-बीएसएफ के 4) शहीद हो चुके हैं।

 

‘मोदी-मैजिक’! इस बार भारत की “दिवाली” से निकलेगा चीन का “दिवाला”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कि “मेक इन इंडिया” योजना और इस दिवाली के त्योहारी सीजन में चीन के बने सामानों के बहिष्कार के सोशल मीडिया पर अभियान के चलते बने माहौल के कारण खुदरा व्यापारियों और थोक व्यापारियों के बीच चीन के सामान की मांग में पिछले वर्ष के मुकाबले लगभग 45 प्रतिशत की गिरावट आई है।

भारत में कोई भी चीनी सामान को खरीदने के लिए तैयार नहीं हैं। भारत में चारों ओर चीन के सामान का विरोध चल रहा हैं। एक तरफ जहां चीन के सामानों के विरोध में लोग सड़कों पर जला रहे हैं, तो दूसरी तरफ चीन के उत्पादों के खिलाफ एक मुहीम चला रखी हैं।

 

चीनी सामान खरीदने की मांग में हुई जबर्दस्त गिरावट (boycott Chinese goods)

सोशल मीडिया पर चीनी सामान के बहिष्कार के अभियान की तीव्रता और उसके कारण पैदा हुआ देशभक्ति का माहौल इसके पीछे वजह है। दीपावली की खरीददारी के माहौल में भारत में बनी लाइट्स, मुर्तियों आदि की मांग बढ़ने लगी हैं। इस कारण इस वर्ष खुदरा व्यापारियों द्वारा इम्पोर्टर्स और थोक व्यापारियों से चीनी सामान खरीदने की मांग गत वर्ष की तुलना में लगभग 45 प्रतिशत घटी है।

भारत के घरेलू व्यापार में जबर्दस्त उछाल (boycott Chinese goods)

India

क्योंकि, यहां मामला पाकिस्तान से जुड़ा है, इस वजह से लोगों में चीनी सामानों के प्रति जबर्दस्त विरोध है जिसकी वजह से सोशल मीडिया का यह अभियान घरों तक महिलाओं और बच्चों के बीच पहुंच गया है। त्योहारी खरीदारी में महिलाओं और बच्चों की बड़ी भूमिका होती है, इसलिए व्यापारी इस वर्ष चीन का सामान अपनी दुकानों पर रखने से भी कतरा रहे हैं और इसी वजह से चीनी सामान की मांग में इस वर्ष जबर्दस्त गिरावट आई है। जिसके कारण भारत के घरेलू व्यापार में जबर्दस्त उछाल दिखाई दे रहा है।

विरोध को देखते हुए लोग मान रहे हैं कि जिन थोक व्यापारियों ने काफी पहले चीनी सामान का आयात किया है, उन्हें इस वर्ष नुकसान होगा। चीनी पटाखे, बल्ब की लड़ियां, गिफ्ट का सामान, फर्नि¨शग फैब्रिक, इलेक्ट्रिक फिटग, इलक्ट्रोंनिक सामान, घरेलू सजावट का सामान, खिलौने, भगवान की तस्वीर एवं मूर्तियां आदि की बिक्री पर इस बहिष्कार का व्यापक असर पड़ेगा।

सोशल मीडिया ने दिखाई ताकत और चीन हुआ बर्बाद  (boycott Chinese goods)

chinese

भारत के दिल्ली-एनसीआर, पंजाब, राजस्थान, मध्यप्रदेश और हरियाणा जैसे राज्यों में चीन के सामानों का बहुत बड़ा बाजार है और पिछले कुछ वर्षों में चीनी उत्पादों ने बड़ी मात्रा में भारतीय बाजार में अपनी जगह बनाई है। पर इन्हीं राज्यों में चीन के सामानों का जबर्दस्त विरोध हो रहा है। भारत के इन राज्यों में भारत में निर्मित पटाखों तथा फायरशॉट की मांग पहले से अधिक बढ़ गई है। सबसे ज्यादा खुशी कि बात यह है कि ग्राहकों पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा हैं।

भारत का पटाखा बाजार तेजी से उछला हैं, परन्तु चीन की कंम्पनियों की हालत खराब हैं और विचार कर रही हैं कि अपने उत्पादों को कैसे भारत के बाजार में बेचा जाए। खबरों के अनुसार चीन ने इस बार भारत में 1000 करोड़ और भेजने की तैयारी कि थी।

पाक और आतंकवाद का किया सपोर्ट तो भारतीयों ने सिखाया ड्रैगन को सबक (boycott Chinese goods)

Story

चीनी सामान की कीमत क्योंकि भारत में बने सामानों के मुकाबले काफी कम होती है और ये प्रचुर मात्रा में उपलब्ध रहते हैं। इसी कारण भारत में चीनी सामान की लोकप्रियता बनी है। चीनी सामान का बहिष्कार का सोशल मीडिया का अभियान यदि इसी तरह जोर पकड़ता रहा तो निश्चय ही इस दिवाली भारत में तो ‘दिवाली’ मनेगी लेकिन इस दिवाली से चीन का ‘दिवाला’ निकल जाएगा। अगर दुसरे शब्दों में कहे तो कह सकते हैं की इस बार भारतीय बाजारों में दिवाली हैं, तो चीन के कारोबार का दिवाला निकल चुका है।

प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी कि “मेक इन इंडिया” योजना को भारतीयों द्वारा चीन के समानों का विरोध करने के कारण काफी बल मिला है। और लोग अब इस योजना को सफल बनाकर चीन द्वारा पाक द्वारा समर्थित आतंकवाद का साथ देने के लिए ड्रैगन को सबक सिखाना चाहते हैं। वाकई “मेक इन इंडिया” जैसे कार्यक्रमों और देशवासियों कि एक जुटता ने ये साबित कर दिया है कि भारत विश्व गुरु बनने कि राह पर आगे बढ़ रहा है।

जम्मू: आरएस पुरा में 23 घंटे से फायरिंग, BSF ने ढेर किए 3 पाक सैनिक

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की तरफ से एक बार फिर सीजफायर का उल्लंघन किया गया है. मंगलवार रात आरएसपुरा सेक्टर और अरनिया में ये फायरिंग हुई है. इस फायरिंग को 20 घंटे से ज्यादा का समय हो गया है. बीएसएफ ने भी पाकिस्तानी रेंजर्स की 5-6 चौकी को पूरी तरह बर्बाद कर दिया है. बीएसएफ के सूत्रों के अनुसार, तीन पाकिस्तान जवान भी मारे गए है |

इस फायरिंग में 11 नागरिकों के घायल होने की भी खबर है. कुछ घर भी क्षतिग्रस्त हुए हैं.

पाकिस्तान के सिविल एरिया और कई पोस्ट्स पर भारी नुकसान होने की खबर है, सीमापार से लगातार मोटार्र दागे जा रहे हैं. छोटे हथियारों के अलावा 82 एमएम और 120 एमएम के मोर्टार गोलों का इस्तेमाल किया जा रहा है !

सेना के एक अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान की सेना ने राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास सुबह 10 बजे से बिना उकसावे के संघर्ष विराम का उल्लंघन किया और हमारी चौकियों को निशाना बनाकर मोर्टार दागे और छोटे हथियारों से गोलीबारी की. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की ओर से किए जा रहे संघर्ष विराम उल्लंघन का भारतीय सेना मुंहतोड़ जवाब दे रही है !

सेना के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमें जानकारी मिली है कि हमारे सैनिकों की जवाबी गोलीबारी में दो से तीन पाकिस्तानी जवान मारे गए हैं.’ गोलीबारी अब भी चल रही है. एक मोर्टार आरएसपुरा के सुचेतगढ़ सेक्टर के एक घर पर जा गिरा जिससे उसमें रहने वाले एक परिवार की छह महिला सदस्य घायल हो गईं !

इराकी सुरक्षा बलों ने IS के 74 आतंकियों को ढेर किया

बगदाद
इराक के किरकुक शहर में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच लड़ाई के दौरान 74 आतंकवादियों समेत करीब 131 लोग मारे गए, जबकि 150 अन्य घायल हुए हैं। समाचार एजेंसी EFE न्यूज ने इसकी जानकारी दी है।

EFE न्यूज के अनुसार किरकुक के गवर्नर नाजमेद्दीन करीन ने एक बयान में कहा कि शुक्रवार एवं रविवार के बीच हुई झड़पों में इराकी और कुर्दिश सुरक्षाबलों ने आईएस के 74 आतंकियों को मार गिराया।

उन्होंने कहा कि इस दौरान, आईएस के कई आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया, जिनमें एक इराकी नेता भी शामिल है। करीन के मुताबिक, शहर में आईएस के गुट में 100 आतंकवादी हैं, जिनमें अधिकांश इराक के ही हैं। किरकुक के एक चिकित्सकीय सूत्र ने EFE से कहा कि आईएस के 74 आतंकियों के अलावा सुरक्षा बलों के कुछ जवान समेत 57 आम नागरिक भी मारे गए हैं।

शुक्रवार को हुई झड़प के बाद इराक के कुर्दिस्तान क्षेत्र के कई शहरों में और अधिक सुरक्षाबल भेजे गए हैं। मोसूल को आईएस के कब्जे से मुक्त कराने के लिए सोमवार को लगातार आठवें दिन भी झड़पें जारी रहीं। इराकी सुरक्षाबलों तथा कुर्दिश पेशमर्गा का उद्देश्य आईएस को मोसूल से खदेड़ना है, जिस पर उन्होंने जून 2014 से ही कब्जा कर रखा है।

पाक ने फिर तोड़ा संघर्ष विराम, नौशहरा के कलाल सेक्टर में भारी गोलाबारी

Advertisement

पाक सेना ने मंगलवार की सुबह एक बार फिर से नौशहरा तहसील के कलाल सेक्टर में गोलाबारी शुरू कर दी है। पाक सेना ने पहले सैन्य चौकियों को निशाना बनाकर गोलाबारी की और इसके बाद रिहायशी क्षेत्रों को निशाना बनाकर मोर्टार दागना शुरू कर दिए। इस गोलाबारी में अभी तक किसी भी प्रकार के नुकसान की कोई सूचना नहीं है। भारतीय सेना द्वारा भी पाक सेना को मुंह तोड़ जवाब दिया जा रहा है, लेकिन इसके बावजूद भी पाक सेना भारतीय इलाके में जमकर गोलाबारी कर रही है। पढ़ें- पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर की गोलाबारी, बीएसएफ जवान शहीद चार दिनों बाद पाक सेना ने फिर बरसाए गोले शुक्रवार की रात को पाक सेना ने राजौरी व पुंछ के बालाकोट सेक्टर में जमकर गोलाबारी की थी। इसके बाद पाक सेना ने मंगलवार की सुबह फिर से कलाल सेक्टर से गोलाबारी को शुरू कर दी है। जिससे सीमा के करीब रहने वाले लोगों में काफी दहशत का माहौल बना हुआ है। पढ़ें- जम्मू :जंग की तैयारी में थे आतंकी, बरामद हुआ हथियारों का बड़ा जखीरा

जम्मू में फायरिंग जारी, पाक ने किया 25 चौकियों को टारगेट; BSF का एक और जवान शहीद

पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर के आर एस पुरा सैक्टर में एक बार फिर से सीजफायर उल्लंघन किया है। पाक रेंजरों ने बीएसएफ की चौकियों को निशाना बनाकर अधांधुन गोलीबारी की है। इसे देखते हुए बीएसएफ पूरी तरह अलर्ट है और स्थिति पर नजर बनाए हुए है।

इससे पहले भी पाकिस्तानी सेना ने 19 और 20 अक्टूबर की रात को जम्मू के हीरानगर सैक्टर के बोबिया पोस्ट पर हमला किया था जिसमें बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया था। बीएसएफ ने भी अपने सिपाही की मौत का बदला लेते हुए पाकिस्तानी सेना के सात जवानों और एक आतंकी को मौत के घाट उतार दिया था।

पवाड़ा में एक आतंकी मारा गया –         

कुपवाड़ा के कावारी वार्नो एरिया में सोमवार सुबह सिक्युरिटी फोर्सेस ने एक आतंकी को मार गिराया है। यह आतंकी मुठभेड़ के दौरान मारा गया। पूरे इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी है। आपको बता दें कि पाकिस्तान ने पीओके में इंडियन आर्मी की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद अब तक 40 बार सीजफायर किया है।

जवाबी कार्रवाई में पाक के 7 रेंजर्स मारे –

इससे पहले, पाकिस्तान ने बीते शुक्रवार को हीरानगर, राजौरी और पुंछ में तीन बार सीजफायर वॉयलेशन किया था। हीरानगर सेक्टर में बीएसएफ की जवाबी फायरिंग में पाकिस्तान रेंजर के 7 सैनिक मारे गए थे और 3 जख्मी हो गए थे। एक आतंकी भी मारा गया था।

हेड कांस्टेबल सुशील कुमार हुए शहीद –

पाकिस्तान की तरफ से लगातार सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन जारी है। पाक की ओर से सीजफायर के दौरान मोर्टार भी दागे गए और रात को रूक-रूक कर फायरिंग की गई। कई गावों को भी निशाना बनाया गया। पाक की और से की गई दोबारा फायरिंग में BSF के दो जवान और एक स्थानीय नागरिक भी घायल हुआ था। घायल जवानों में  BSF में हेड कांस्टेबल सुशील कुमार आज सुबह शहीद हो गए।

पाकिस्तान के विरुद्ध इस हिंदुस्तानी लड़की ने पाकिस्तान को दिया मुह तोड़ जवाब

आज कल भारतीय लोगों के मन में पाकिस्तान को लेकर जो नफरत दिखाई देती है उसे देख कर ये कहा जा सकता है कि ये नफरत अब शायद कभी खत्म नहीं होगी . पर बरहलाल दोनों मूल्कों को लेकर आये दिन कोई न कोई बवाल मचा ही रहता है . खास कर मीडिया में जहाँ आज कल केवल इसी मुद्दे पर चर्चा सुनाई देती है . सिर्फ इतना ही नहीं कभी कभी तो दुश्मन मूल्क की तरफ से धमकी भरे खत और धमकी भरे ब्यान या कभी तो धमकी भरे विडियो भी मिलते ही रहते है पर इस बार एक भारतीय लड़की ने पाकिस्तान के लिए विडियो बनाया है या यू कहा जाये कि पाकिस्तान को जवाब देने वाला विडियो बनाया है .

एक हिंदुस्तानी लड़की ने पाकिस्तान को दिया मुह तोड़ जवाब .. 

ये विडियो सोशल मीडिया पर भी काफी वायरल हो रहा है . इस विडियो में इस लड़की की देश भक्ति साफ़ दिखाई देती है क्योंकि इसने पाकिस्तान के विरुद्ध जो भी कहा है वो एक कविता के जरिया कहा है और अगर आप भी इसकी कविता को सुनेगे तो आपको भी गर्व होगा .

इस लड़की के शब्द पाकिस्तान के लिए किसी बंदूक से निकली हुई गोली से कम नहीं है . हम जानते है आप भी ये विडियो देखना और सुनना चाहते है तो लीजिये आप भी सुनिये इस निडर लड़की का ये विडियो जिसने कविता के कुछ शब्दो से ही पाकिस्तानियो को मुह तोड़ जवाब दिया है.