फर्स्ट टाइम सम्बन्ध के दौरान आखिर क्यों रोती है। लड़कियां..

First Time

भारतीय सास्कृति सबसे अलग है। यहा के लोगो की सोच भी थोड़ी अलग होती है। भारतीय समाज में परिवार में पल रही लड़की को बचपन मे ऐसा माहौल दिया जाता है। और सम्बन्ध बनाने जुड़ी हर प्रकार की जानकारी से दूर रखा जाता है। जिस से उसके मन मे सम्बन्ध बनाने को लेकर कईं प्रकार के डर जगह बना लेते है…

किस प्रकार का होता है डर …

First time

 

लड़कियो का मानना है कि फर्स्ट टाइम सम्बन्ध बनाने के दौरान काफी दर्द होता है, और ब्लीडिंग जैसी कईं भ्रातियां लड़कियां अक्सर अपने दिल में पाल लेती है।

दर्द का होना पॉजिशन पर करता है डिपेंड…

 

First Time

 

कईं लड़कियों का मानना होता है की सम्बन्ध के दौरान की गई पॉजिशन से भी दर्द का कुछ नाता होता हैं। वे मानती हैं की कुछ पॉजिशन्स में ज्यादा दर्द होता है…

First Time

 

डॉक्टर्स के मुताबिक इस दर्द को दाइस्पेरिनिया कहते हैं। यह एक ऐसा दर्द हैं जो एक बार होने पर बार-बार भी हो सकता है। जिस मे कपल के रिश्तों पर बुरा असर पड़ जाता है।

 

क्या कारण होता है बहुत अधिक दर्द होने का…

 

First Time

 

पहली बार सम्बन्ध के दौरान दर्द होना का कारण होता है शारीरिक भागों का खुलना। खुलते टाइम माशपेशियां खींच जाती हैं और दर्द होने लगता है।

ज्यादा दर्द होता है इन महिलाओ को…

First Time

 

कईं महिलायें ज्यादा दर्द के डर अपने दिमाग में डर बना लेती हैं और इन चीजों को बुरा मानने लगती हैं और संभोग के दौरान पुरुषों को सहयोग नहीं दे पाती तब भी ज्यादा दर्द की संभावना बन जाती हैं…

इन्फेक्शन भी कारण होता है….

First time

 

पहली बार के दौरान गुप्तांगों के भाग खुलते हैं इस कारण से शरीर के गुप्त भागों में कईं बार इन्फेक्शन या सूज़न आ जाती हैं जो दर्द का सबसे बड़ा कारण बन सकती है।

परवरिश की होती है कमी…

 

First time

 

लड़कियों की बचपन से की गई परवरिश की भी कईं बार गलती होती है। उनकी परवरिश इस तरह से की जाती है की उनके मन में डर बैठ जाता है। वो नाम से घबराने लग जाती हैं उनको सुनने को मिलता है की सम्बन्ध के दौरान बहुत दर्द होता है। और ब्लीडिंग होती है। जिस के कारण लड़कियों के मन में डर बैठ जाता है।

 

Author: Viral India

Viralindia.co.in is informative and interactive platform to provides the best & accurate information and work to increase the Social Awareness in our Society.