ऐ दिल है मुश्किल – मुख्यमंत्री फड़नवीस ने करण जोहर को कुछ इस तरह से बचाया राज ठाकरे से !

ae-dil-hai-mushkil

राज ठाकरे के एक्शन के बाद शुरू हुई फिल्म ऐ दिल है मुश्किल की मुश्किल हल करने के लिए जो सियासी पटकथा लिखी गई उसमें कई किरदारों ने अपनी भूमिका निभाई है.

इसमें देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह के साथ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस और शाइना एनसी भी गेस्ट एपीरिएंस की भूमिका में हैं.

बताया जाता है कि ऐ दिल है मुश्किल को देश में रिलीज करने को लेकर जो समझौता हुआ है उसकी भूमिका काफी पहले बननी शुरू हो गई थी.

लेकिन फिल्म के निर्माता करण जौहर कुछ शर्तों को लेकर दुविधा में थे.

शुरू में तो फिल्म रिलीज कराने के लिए करण जौहर एंड महेश भट्ट कंपनी की मंशा अदालत के दम पर राज ठाकरे को ठेंगा दिखाने की थी. लेकिन भारत में उरी हमले के बाद पाकिस्तान और उसके कलाकारों के खिलाफ बने माहौल को देखते हुए इन्होंने अपने कदम वापस खींच लिए.

फिर इन्होंने भाजपा नेता साइना एनसी को आगे कर कोशिश की कि फिल्म के रिलीज को लेकर भाजपा की ओर से कोई विरोध न हो तो वे राज ठाकरे के विरोध की परवाह नहीं करेंगे.

इसके लिए ये लोग न केवल मुंबई में बल्कि दिल्ली में भी भाजपा नेता और गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिले. गृहमंत्री राजनाथ सिंह से आश्वासन मिलने के बाद इनको लगा कि इनकी मुश्किल आसान हो गई.

लेकिन इसी बीच राज ठाकरे को जब ये खबर मिली तो महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने धमकी दी की उन्हें इग्नोर करके मुंबई में न तो कोई फिल्म चल सकती है और न ही कोई फिल्मवाला. मनसे नेता अमय खोपकर ने इशारों इशारों में चेता दिया कि अगर कोई मल्टिप्लेक्स इस फिल्म को चलाता है तो उसको ध्यान रखना चाहिए कि मल्टिप्लेक्स बनाने में काफी खर्चा आता है. और अब दीपावली आ रही है तो पटाखे और बम फटेंगे ही.

राज की इस धमकी के बाद करण जौहर एंड महेश भट्ट को समझ आ गया कि ये मुश्किल स्थिति इतनी आसान नहीं है, क्योंकि यदि मनसे इस फिल्म का विरोध करती तो भाजपा चाहकर भी इस फिल्म का बचाव नहीं कर पाएगी.

क्योंकि उरी हमले के बाद पाकिस्तान के कलाकारों का समर्थक होने का ठप्पा भाजपा अपने सर पर कभी नहीं ले सकती है.

वहीं राज ठाकरे भी जान रहे थे कि फिल्म तो रिलीज होगी और अदालती आदेश के बाद मजबूरी में महाराष्ट्र सरकार सिनेमा हाल को सुरक्षा भी देगी. साथ ही वे महाराष्ट्र के बाहर इस फिल्म को नहीं रोक पाएंगे.

लिहाजा, अपनी बात रखते हुए कोई ऐसा समझौता किया जाए जिससे सांप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे.

इसके बाद दिल्ली में राजनाथ सिंह और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री फड़नवीस ने राज ठाकरे के साथ मिलकर एक रोड मैप तैयार किया, जिसमें तय हुआ कि इस विवाद से जुड़े सभी लोग मुख्यमंत्री आवास पर मिलेंगे और वहीं फिल्म रिलीज समझौते की घोषणा होगी.

यही वजह थी कि आज फिल्म ऐ दिल है मुश्किल की रिलीज को लेकर न सिर्फ मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मिलने पहुंचे बल्कि फिल्म निर्माता करण जौहर, साजिद नाडियावाला, मुकेश भट्ट, सिद्धार्थ रॉय कपूर भी सीएम से मिलने पहुंचे.

और फिर जारी हुआ वह समझौता जो राज ठाकरे चाहते थे.

फिल्म रिलीज के लिए जो समझौता हुआ उसमें तय हुआ कि निर्माता आगे से पाकिस्तान के कलाकारों के साथ काम नहीं करेंगे और करण जौहर ने अपनी फिल्म ‘ए दिल है मुश्किल’ की शुरुआत में शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए एक विशेष संदेश प्रसारित करेंगे.

इसके अलावा सार्वजनिक रूप से इसकी घोषणा करेंगे कि हम सबसे पहले हिंदुस्तानी हैं, बाद में फिल्मी कलाकार.

Author: Viral India

Viralindia.co.in is informative and interactive platform to provides the best & accurate information and work to increase the Social Awareness in our Society.